Tuesday, May 19, 2015

"बाइबिल के प्रकाश में हिंदू धर्म’’।



‘‘बाइबिल के प्रकाश में हिंदू धर्म’’।
द्वारा: पादरी स्टीवन एल एंडरसन
पृश्ठ पलटकर 23 पर पहुंचे। बाइबल की दूसरी पुस्तक पलायन है। अध्याय संख्या 23। आज मैं हिंदू धर्म के धार्मिक सिद्धातों के खिलाफ प्रचार करना चाहता हूँ। ‘‘बाइबल के प्रकाश में हिंदू धर्म’’। अब इस मामले में, मैं आपको याद दिलाना चाहता हूँ कि हिंदू धर्म दुनिया के सबसे बड़े धमोर्ं में से एक है, भले ही हम इसे इस रूप में नहीं सोच सकते।
वास्तव में, एक जनसांख्यिकीय अध्ययन के अनुसार विष्व में 2.2 अरब र्इसार्इ हैं, मूल रूप से विश्व की जनसंख्या का एक तिहार्इ और जाहिर है वे रोमन कैथोलिक धर्म और र्इसार्इ धर्म की सभी झूठी अन्य शाखाओं को शामिल करके र्इसार्इ शब्द का बहुत आसानी से, उपयोग कर रहे हैं।
इसलिए यह दुनिया की आबादी का एक तिहार्इ है, फिर 1.6 अरब मुसलमान हैं, जो विष्व की आबादी का 23 प्रतिशत होगा, और फिर इस विष्व में 1 अरब हिंदू हैं या विष्व की आबादी का लगभग 15 प्रतिशत, मेरा मतलब है कि यह विशाल संख्या है।
1 अरब हिंदू। आज के जमाने में, सारे धर्म एक साथ, एकजुट होकर काम करने पर बल दे रहे हैं, पूरे विश्व का एक धर्म, विष्व की एक सरकार, ‘‘नर्इ विश्व व्यवस्था’’ र्इसार्इ धर्म के विरुद्ध एक प्रकार के आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं।
यहां तक कि कुछ र्इसार्इ शिक्षकों ने कहना शुरू कर दिया है, ‘‘अरे, हिंदू वास्तव में हमारी तरह हैं’’।
वास्तव में, मैं थोड़े दिन पहले लंबी पैदल यात्रा पर सेडोना, गया था और हरे कृष्ण मुझे वहाँ पर मिले, और वे मुझे हिंदू धर्म में भर्ती करने की कोशिश कर रहे थे। वे आत्मा पर-विजय पाने का हिंदू संस्करण कर रहे थे। और वे मुझे बताने की कोशिश कर रहे थे, ‘‘ओह, हम यीशु में विश्वास’’ करते हैं और जैसे हिंदू धर्म और र्इसार्इ धर्म के बीच कुछ महान संबंध है और आगे कार्रवार्इ करने की कोशिश कर रहे थे।
” लेकिन मैं यहाँ आपको बताता हूँ कि हिंदू धर्म एक झूठा धर्म है, और मैं आपको जॉएल ऑस्टीन, जो टीवी पर सबसे लोकप्रिय ‘‘र्इसार्इ’’ शिक्षकों में से एक है, का एक उद्धरण देकर शुरू करता हूँ, रेडियो.. पर बड़े पैमाने पर उनके प्रषंसक हैं। और यहाँ उसने क्या कहा, ‘‘मैंने भारत में बहुत समय बिताया है। मैं बहुत से हिंदू लोगों के साथ रहा हूँ। वे अच्छे, दयालु लोग हैं जो भगवान से प्यार करते हैं’’।
अब यहाँ एक बात है: मुझे यकीन है कि वे अच्छे, दयालु लोग हैं, लेकिन हिन्दू भगवान से प्यार कहते हैं झूठ है, क्योंकि उनके पास बाइबल का परमेश्वर नहीं है और बाइबल सिखाता है कि केवल एक ही परमेश्वर है, और अन्य सभी देवता झूठे देवता हैं। उसने यह भी कहा, जब उससे पूछा गया था उन्हें यीशु में विश्वास नहीं करने पर यदि नर्क जाना होगा, तब उसने नही कहा कि उन्हें नर्क में जाना होगा।
उसने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता। वे भगवान से बहुत प्यार करते हैं। मैं नहीं जानता।’’ लेकिन चलो देखते हैं कि बाइबल क्या कहती है। अब हिंदू धर्म के अनुसार… मैं बस इस पहली बात द्वारा शुरू करता हूँ। हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान को किसी भी नाम से पुकारा जा सकता है। हिंदू धर्म के बारे में बात यह है कि उन्हें अक्सर देवताओं की बड़ी संख्या के लिए जाना जाता है।
लोगों का कहना कि लाखों देवता है, लेकिन वास्तव में, अधिकांश हिन्दू जो आपसे एक भगवान की पूजा करने की बात करते हैं, और उन्हें लगता है कि उनका भगवान सच्चा परमेश्वर हैं, लेकिन वे अन्य हिंदुओं के साथ जो अन्य देवताओं की पूजा करते हैं अच्छा क्योंकि वे सभी एक ही धर्म, एक ही परमेश्वर की बस अलग अभिव्यक्तियाँ हैं ।
वे अपने भगवान में विश्वास करते है, लेकिन उन्हें लगता है कि उस पर अलग अलग नाम से विश्वास करना ठीक है। इससे कोर्इ फर्क नहीं पड़ता कि भगवान का नाम क्या है - यह हिंदू धर्म के बारे में अलग चीज है। सिर्फ भगवान का नाम ही उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं है।
अच्छा, चलो इसके विपरीत बाइबल क्या सिखाती है, पृश्ठ 23:13 पर देखें। बाइबल में लिखा है, कि ‘‘सभी चीजों में जो मैने आपसे कही है आप सावधान हों: और किसी अन्य देवताओं के नाम का कोर्इ जिक्र ना करें, और न ही, यह आपके मुंह से बाहर सुनार्इ दे।’’
तो बाइबल हमें यहाँ, बता रही है कि हमें झूठे देवताओं का नाम नहीं लेना चाहिए। इसलिए यह बता रही है, ‘‘अरे, भगवान को किसी भी नाम से जो कुछ भी तुम चाहते हो बुलाओ?’’ नहीं, वह कह रही है अन्य देवताओं के नाम का उपयोग नहीं करें - यहां तक कि उनके नाम भी नहीं।
ड्यूट्रोनोमी के अध्याय नंबर 12 में देखें, और जब आप ड्यूट्रोनोमी 12 पर पहुंचते हैं, मैने ड्यूट्रोनोमी 18:20 से आपके लिए पढ़ा है, ‘‘लेकिन पैगंबर, मुझसे बात करने के लिए कौन से नाम का अनुमान लगाएगा, जिसे मैने उसे बात करने की आज्ञा नहीं दी है, या किसी अन्य देवताओं के नाम से बात करेगा, जबकि पैगम्बर मर गया होगा।’’
इसे सुनो: जोशूआ 23:7 ‘‘तु इन राष्ट्रों के बीच से नहीं आया, ये तुम्हारे बीच से बने हैं; न तो उनके देवताओं के नाम का उल्लेख है’’ क्या आपने सुना है? उनके देवताओं के नाम का उल्लेख नहीं है। उसने कहा, ‘‘और न ही उनके द्वारा कसम खाने का कारण है न ही उनकी सेवा करना और न ही अपने आपको उनके सामने झुकाना: लेकिन परमेश्वर आपके भगवान के साथ चिपका रहता है, जैसे कि तु आज के दिन कर रहा है।’’
तुम बाइबल की ड्यूट्रोनोमी में 12:1 पर नीचे देखो। वह कहती है, ‘‘ये विधियाँ और निर्णय हैं, जिसका आप पृथ्वी पर निरीक्षण करेगें, जो परमेश्वर भगवान ने तुमको तुम्हारे पिता के यह अधिकार दिए हैं, कि तुम हमेषा पृथ्वी पर रहो।
तू सर्वथा सभी स्थानों को नष्ट करेगा, जिसमें राष्ट्र पर उनके देवताओं की सेवा के लिए, ऊंचे पहाड़ों पर और पहाड़ियों पर, और हर हरे पेड़ के नीचे तू अधिकार करेगा: और तू उनकी वेदियों को उखाड़ फेंकेगा और उनके खम्भों को तोड़ेगा, और उनके पेड़ों को आग से जला देगा; और उनके देवताओं की गंभीर छवियों को, ‘‘यह देखो!’’ और उस जगह से उनके नामों को नष्ट करेगा।
तू अपने परमेश्वर भगवान की तरह नहीं कर सकता।’’ इसलिए इसी वक्त वह झूठे देवताओं के नामों को नष्ट करने के लिए कह रहा है। यहां तक कि झूठे देवताओं के नामों का उल्लेख भी मत करना। यहां तक कि उनके नाम अपने होठों से बाहर मत आने देना।
फिर वहाँ बैठते हैं और कहते हैं कि, ‘‘ओह, इस बात से कोर्इ फर्क नहीं पड़ता कि वे किस नाम के र्इश्वर की पूजा कर रहे हैं, जब तक वे एक भगवान की पूजा कर रहे हैं, तो यह एक ही परमेश्वर है।’’ गलत। यह एक ही परमेश्वरं है जब तक आपका नाम सही नही है, और उस का नाम यीशु है। यीशु का नाम सभी नामों के ऊपर है।
अब यदि आप, फिलिपियसं के अध्याय 2 पर जाएगें। फिलिपियसं कीे अध्याय संख्या 2। आप देखेगें, क्योंकि कोर्इ सिर्फ किसी एक र्इश्वर में विश्वास करता है या एक र्इश्वर की पूजा या उसको स्वीकार करते हैं इसलिए वहाँ एक परमेश्वर है, मतलब यह नहीं है कि वे बाइबल के देवता की पूजा कर रहे हैं। क्योंकि कोर्इ कहता है, ‘‘भगवान तुम्हें आशीर्वाद दे,’’ इसका मतलब यह नहीं है कि वे आपको बाइबल के प्रभु परमेश्वर के नाम पर, इब्राहीम के परमेश्वर, इसैक और जैकूब, के परमेश्वर और हमारे प्रभु यीशु मसीह के पिता का आशीर्वाद दे रहे हैं।
क्योंकि आप कहते हैं कि ‘‘भगवान’’ का मतलब यह नहीं है कि आप सच्चे भगवान से बात कर रहे हैं क्योंकि अन्य राष्ट्रों में झूठे देवता हैं, बाइबल हमें बताती है। फिलिपियसं 2 में बाइबल में कविता नौ में स्पष्ट है उस का क्या नाम है। ‘‘हालांकि भगवान उससे भी अत्यधिक ऊंचा है, और उसे एक नाम दिया गया जो हर नाम से ऊपर है: उसके नाम पर हर किसी को झुकना चाहिए, स्वर्ग में, और पृथ्वी में, और पृथ्वी के नीचे की चीजों को यीशु के आगे झुकना चाहिए और हर व्यक्ति को कबूल करना चाहिए कि प्रभु पिता की महिमा के लिए यीशु मसीह ही परमेश्वर हैं।’’
पृश्ठ को रोमसं 10 पर पलटें, और जब आप रोमंस 10 पर पहुंचते हैं, मैं आपको एक्ट 4:12: से प्रसिद्ध कविता सुनाता हूँ ‘‘न तो किसी अन्य में मोक्ष है: स्वर्ग के अंतर्गत कोर्इ भी अन्य नाम पुरुषों के बीच में से नहीं है, जिसके तहत हमें जरुर सुरक्षित किया जाना चाहिए।’’ 1 जॉन 5:13:
‘‘ये बातें जो मैंने आपको लिखी हैं आपको पता हो सकती हैं विष्वास है कि परमेश्वर के पुत्र के नाम पर आपका जीवन अनन्त है, और यह कि तुम भगवान के बेटे के नाम पर विश्वास कर सकते हो।’’ फिर से नाम के जोर पर ध्यान दें: नाम पर विश्वास करें: यह यीशु का नाम होना चाहिए.. और क्या अजीब है:
मैंने भी सुना है लोग… कहते हैं सुनो एक कारण है कि आज सुबह मैं यह उपदेश क्यों दे रहा हूँ क्योंकि अब आपको भी स्वतंत्र र्इसार्इयों द्वारा कही गर्इ इन विचित्र बातों को सुनना होगा।
इस स्थान पर अत्यधिक लोग हैं और यहां तक कि आप भी स्वतंत्र र्इसार्इयों से इस तरह की बातों को कहते हुए सुनेगें, ‘‘ओह, इस द्वीप पर इन लोगों को या इस दूसरे देश में, वे बस आकाश की तरफ, और भगवान, के नाम की तरफ देखते हैं और उन्हें यीशु का नाम भी पता नहीं है, लेकिन वे सुरक्षित हैं क्योंकि वे सिर्फ परमेश्वर का नाम लेते हैं, जो इसका मतलब है। नहीं, बाइबल कहती हैं, ‘‘जो भी प्रभु का नाम लेगा सुरक्षित हो जाएगा।’’
वह कौन सा नाम है? ठीक है, रोमसं 10:9 को देखें। रोमसं 10:9 में यह कहा गया हैं: ‘‘कि यदि आप अपने मुँह से प्रभु यीशु को कबूल नहीं करेगें, और कबूल नहीं करेगें तो भगवान उसे बचा लेगा, आपके हृदय में विश्वास है तो र्इष्वर उसे मरने से बचा लेगा, वह सुरक्षित हो जाएगा। व्यक्ति का दिल से धार्मिकता में विश्वास; और मुँह से मोक्ष को स्वीकारोक्ति बना दिया है।
सेथ धर्म ग्रंथ के लिए, जो भी उसपर विष्वास करता है उसे शर्मिंदा नहीं होना पड़ेगा। यहूदी और यूनानी के बीच कोर्इ अंतर नहीं है: सब जगह एक ही प्रभु है और सब उसको पुकारते हैं। जो भी भगवान को याद करेगा वह सुरक्षित रहेगा।’’ मैं 10, 11, 12 और 13 के छंद के शुरुआत में शब्द ‘‘के लिए’’ को इंगित करना चाहता हूँ।
क्या आपने देखा? यह एक संयोजन है जो हमारी आधुनिक स्थानीय भाषा में ‘‘क्योंकि’’ होगा। ‘‘हम ‘‘क्योंकि’’ शब्द का प्रयोग करेंगे।’’ 9 वीं कविता में, वह बताता है। वह कहता है, ‘‘कि यदि आप अपने मुँह से प्रभु यीशु को कबूल करते हैं, और तेरे हृदय में विश्वास है कि भगवान उसे मरने से बचाता है, तो आप सुरक्षित हैं।’’ ठीक है एक सवाल पूछते हैं, ‘‘क्यों?’’ आप अपने मुँह से प्रभु यीशु को कबूल करते हैं इसलिए वह आपको सुरक्षित रखता है और आपके हृदय में विश्वास है तो भगवान उसे मरने से बचाता है ? वह आपको क्यों सुरक्षित करता है?
अच्छा कविता 10 हमें बताती है क्योंकि ‘‘आदमी के दिल में धार्मिकता के प्रति विश्वास है: और मुँह से स्वीकारोक्ति ने मोक्ष बना दिया है। ‘‘कविता 11 हमें बताती है क्योंकि ‘‘धर्म शास्त्र में, जो भी उसपर विष्वास करता है उसे शर्मिंदा नहीं होना पड़ेगा।’’ क्योंकि (कविता 12) ‘‘यहूदी और यूनानी के बीच कोर्इ अंतर नहीं है: सब जगह एक ही प्रभु है और सब उसको पुकारते हैं।’’
और फिर कविता 13 में यह है कि ‘‘जो प्रभु के नाम को याद करेगा सुरक्षित रहेगा।’’ इसलिए, कविता 13 में प्रभु का नाम ‘‘यीशु’’ है। वह कहता है, ‘‘जो भी अपने मुँह से प्रभु यीशु को कबूल करते हैं वे सुरक्षित रहते हैं,’’ वापस कविता 9 की बात करते हैं उसमें कहा गया है अपने मुँह से प्रभु यीशु को स्वीकार करो।’’ वह नाम जो नए इच्छा पत्र में मोक्ष के साथ जुड़ा हुआ है ‘‘यीशु’’ है।
अब जब इब्राहीम प्रभु का नाम पुकारता है, तो वह ‘‘भगवान सर्वशक्तिमान’’ को पुकारता है। वह असली नाम जिसके द्वारा वह मुख्य रूप से अब्राहम, इसैक और याकूब पादरियों द्वारा जाना जाता था। वे र्इश्वर सर्वशक्तिमान पुकारते हैं।
जब डेविड प्रभु का नाम पुकारने के बारे में बात करता है, वह ‘‘जेहोवा’’ नाम से पुकार रहा है, और नए इच्छा पत्र में, जो नाम भगवान द्वारा पुरुषों के बीच दिया गया है, जिसके तहत हमें सुरक्षित रहना चाहिए, ‘‘यीशु’’ का नाम है। ‘‘केवल यही नहीं ‘‘भगवान,’’ के ‘‘सुप्रीम होने के नाते,’’ नहीं लेकिन यीशु स्वयं हैं।
अब जॉयल ऑस्टीन कहता है कि हिंदू पूजा और भगवान से प्यार करते हैं, इसलिए जो उसपर विश्वास नहीं करते वे नरक में जाते हैं, या उसे वास्तव में नहीं पता क्योंकि वे भगवान से इतना प्यार करते हैं उसका पिता वहाँ पर चला गया और कहा कि वे भगवान से बहुत प्यार करते हैं, और उसने कहा वे भगवान से बहुत प्यार करते हैं। अब मैं आपको इसी समय बताता हूँ और साबित करता हूँ कि हिन्दू धर्म के भगवान वास्तव में स्वयं शैतान हैं।
सचमुच मेरा मतलब यह है, और मैं इसे आपको साबित करुंगा। 1 कोरिनथीयंस 10 पर जाओ। मैं इसे आपके लिए कर्इ मायनों में साबित करुंगा, लेकिन 1 कोरिनथीयंस 10 पर जाओ। और आप कहते हैं, ‘‘आप सिर्फ भारतीय लोगों से नफरत करते हैं,’’ या ‘‘आप हिंदुओं से नफरत करते है।’’ नहीं! मैं उन्हें प्यार करता हूँ। यही कारण है कि मैं उन्हें उपदेष दे रहा हूँ। उन्हें प्रभु का नाम पुकारने की जरूरत है और सुरक्षित रहने की जरूरत है। उन्हें यीशु मसीह के नाम को स्वीकार करने की जरूरत है।
उन्हें अपने खोखलेपन और मूर्तियों और झूठे देवताओं, से मुंह फेरने की आवश्यकता है और उन्हें जीवित और सच्चे परमेश्वर की तरफ जाने की जरूरत है, और अगर हम उनसे प्यार करते हैं तो हम उन्हें बताने जा रहे हैं कि सच यह है कि हिंदू धर्म विनाश का मार्ग और नरक में जाने का रास्ता है, और उन्हें अपने मुक्तिदाता के रूप में प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास करने की आवश्यकता है। आज के हिंदुओं के लिए यह प्रेम का संदेश है ।
बाइबल कोरिनथीयंस 10:19 में बताती हैं, ‘‘फिर मैं क्या कहूं? कि मूर्ति कुछ है, या जिसने मूर्तियों के लिए बलिदान की पेशकश की है कुछ है? लेकिन मेरा कहना है कि चीजें जो अन्यजातियों के लिए बलिदान करते हैं, वे शैतानों के लिए और भगवान के लिए त्याग नहीं करते: और मेरे साथ और आप के साथ नहीं तुम्हारी बिरादरी के शैतानों के साथ होना चाहिए। ‘‘तो वह क्या कह रहा है कि इस मूर्ति को देखना और सिर्फ लकड़ी, पत्थर के हसीन टुकड़े के रुप में सोचना आसान है।
यह वास्तव में कुछ भी नहीं है। यह एक निर्जीव वस्तु है। लेकिन यहाँ पॉल कह रहा है कि वे एक मूर्ति के सामने झुक रहे हैं, यह नहीं कि वे सिर्फ एक निर्जीव वस्तु की पूजा कर रहे हैं, लेकिन वे वस्तुत: शैतान की पूजा कर रहे हैं यह उससे भी अधिक महत्वपूर्ण है।
कविता 20 में यह कहा गया है: ‘‘मैं कहता हूँ, कि बातें जो अन्यजातियों के लिए बलिदान करती हैं, ‘‘और हिंदुस्तानी अन्यजातियों के हैं। ‘‘ चीजें जो अन्यजातियों के लिए बलिदान करती हैं वे शैतानों के लिए और भगवान के लिए त्याग नहीं करते: और मेरे साथ और आप के साथ नहीं यह तुम्हारी बिरादरी के शैतानों के साथ होना चाहिए। ‘‘वास्तव में, अगर आप बाइबल में ‘‘परमेश्वर’’ शब्द का मतलब देखते हैं,- तो हर जगह देवता दिखार्इ देते हैं।
क्या आप जानते हैं कि यह सैकड़ों बार किसका प्रतिनिधित्व करता है जिसका पूरी बाइबल में प्रयोग किया गया है? यह शैतानों का प्रतिनिधित्व करता है। यह राक्षसों का प्रतिनिधित्व करता है। यह झूठे देवताओं का प्रतिनिधित्व करता है। झूठे देवता वास्तव में राक्षस या “ौतान हैं जो भगवान को प्रतिरूपित और झूठे धर्म के माध्यम से इस दुनिया को अंधा कर बना रहे हैं।
मैं हिंदू धर्म के मुख्य देवताओं के नाम आपको नहीं बता रहा हूँ क्योंकि बाइबल कहती है, यहां तक कि उनके नाम भी नहीं लेने चाहिए। बाइबल कहती है, यहां तक कि उनका नाम आपके मुंह से बाहर नहीं आना चाहिए, लेकिन हिंदुओं की पूजा के तीन मुख्य देवता हैं।
मैं आप को यह समझाना चाहता हूँ कि वे एक अर्थ में देवताओं की भीड़ की पूजा नहीं कर रहे हैं। कुछ हिंदुओं के- उनमें से एक उनके मुख्य भगवान है: एक है जिसका नाम ‘‘वी’’ से शुरू होता है। फिर अन्य हिंदुओं, के एक मुख्य भगवान है जिसका नाम ‘‘एसएच ध्वनि के साथ’’ शुरू होता है। तब यहाँ पर, एक और जिसका नाम एक ‘‘डी’’ के साथ शुरू होता है उनके मुख्य भगवान हैं ।
और हाँ, उन सबके अलग अलग लघु समुदाय और लाखों अलग अलग नाम और अभिव्यक्तियाँ, या अवतार या उन्हें किस देवता के रूप में पुकारा जाता है, लेकिन निश्कर्श यह है कि यह हिंदू धर्म के भीतर अलग मूल्यवर्ग की तरह है। उनका कहना है, ‘‘अच्छा, हमारे भगवान ही सबसे अच्छे हैं, या मुख्य भगवान है। फिर अन्य कहते हैं, ‘‘अच्छा, नहीं, इसकी हम पूजा करते हैं क्योंकि वास्तव में यही बेहतर है, या जो कुछ भी।
लेकिन दिन के अंत में, वे अन्य देवताओं के साथ, भी, ठीक हैं क्योंकि वे ‘‘हिन्दू धर्म,’’ का हिस्सा हैं, तो काफी समय से जैसा आप कर रहे हैं... जिस तरह हिन्दू इसे देखते हैं मेरे अध्ययन से और समझने जैसा है, ‘‘तुम हिंदू हो या तुम नहीं हो।’’
और अगर आप किसी दूसरे भगवान की पूजा कर रहे हैं, जब तक आप धर्म और वेद और जिसे वे मानते हैं की बुनियादी शिक्षाओं का अनुसरण कर रहे हैं, तो आप अच्छे हैं। आप हिंदू हैं। हम आप को स्वीकार करेंगें भले ही अगर आप भगवान को अलग अलग नाम से बुला रहे हैं क्योंकि सिर्फ नाम ही उतना महत्वपूर्ण नहीं है । खैर, हमने बाइबल में देखा था कि नाम वास्तव में महत्वपूर्ण है।
लेकिन मैं आपको उनके मुख्य देवताओं के बारे में सिर्फ थोड़ा सा बता दूँ। एक है जो ‘‘वी’’ से शुरू होता है - बस उसकी तस्वीर को देखो। वह एक साँप पर खड़ा है, और हमेशा उसके सिर के ऊपर 5 कोबरा लिपटे हैं। यह सांप का धर्म है! बाइबल में शैतान हमेशा किसके द्वारा पहचाना जाता है? वह सांप है।

वह पुराने सांप, राक्षस, शैतान, ड्रैगन है। और अगर आप उनके भगवान को देखेगें - एक मुख्य, सबसे लोकप्रिय, बडे जिनका नाम ‘वी’’ से शुरू होता है - उसके सिर के ऊपर 5 कोबरा हैं, और वह एक साँप पर खड़ा है। फिर आप दूसरे सबसे लोकप्रिय भगवान को देखो और वैसी ही बात को देखें: चारों ओर साँप। खोपड़ी, आग, साँप। आप बस इसे देख सकते हैं, और आप देख सकते हैं कि यह शैतान है।
केवल यही नहीं, लेकिन एक जिसका नाम ‘‘एसएच ध्वनि’’ के साथ शुरू होता है यहूदी धर्म की झूठे भगवान की तरह है: पुरुष और महिला दोनों । वह बाइबल का परमेश्वर नहीं है। बाइबल का परमेश्वर हमेशा ‘‘वह’’ है। वह पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा है। उसने आदमी को अपनी छवि, आदि बनाने के लिए भेजा गया है। वे यह भगवान जो पुरुष और महिला दोनों हैं।
हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय झूठे देवताओं के बारे में एक और बात है यह है कि उन्हें बहुत ही जल्दी क्रोध आता है। उन्हें जल्दी क्रोध आता है, लेकिन वह जल्दी से प्रसन्न हो जाते हैं और शीघ्रता से क्षमा करते हैं। खैर, भगवान इसके बिल्कुल विपरीत है क्योंकि बाइबल दोहे 1:3 में कहती है कि ‘‘प्रभु को धीरे से क्रोध आता है, और महान शक्ति है, और सभी दुष्टों को बरी नहीं करेगा: प्रभु के रास्ते में बवंडर और तूफान हैं, और बादल उनके पैरों की धूल हैं।’’
इसके अलावा, आप ध्यान देगें कि जब आप इन हिंदू देवताओं, के चित्रों को देखते हैं, वे अक्सर एक जेली या त्रिशूल पकडे हैं, जो शुद्धतम सार का प्रतीक हैं हमें लगता है कि शैतान जेली पकड़े - होता है। यहाँ आपने सांप और आग की लपटों और खोपड़ी और एक जेली के साथ एक व्यक्ति को देखा है। यह उनके परमेश्वर है। यह एक दुष्ट धर्म है।
और फिर तीसरा सबसे लोकप्रिय - उन दो में से सबसे लोकप्रिय - फिर तीसरी सबसे लोकप्रिय एक स्त्री देवी जिसमें मानव बलिदान की शाब्दिक पूजा शामिल है। अब आधुनिक समय है जाहिर है उन्हें यह करने की अनुमति नहीं है, लेकिन पहले समय में वे ऐसा करते थे।
वे भारत के कर्इ हिस्सों में मानव बलि का प्रदर्शन करते थे, बल्कि साप्ताहिक आधार पर, इस झूठी देवी के लिए वहाँ रक्त का भोजन किया जाता था....चलो देखते हैं.... रक्त का भोजन और एक महिला देवी की पूजा कर रहे हैं, हाँ, दूसरे धर्म की तरह देखते हैं मुझे पता है, शायद यहाँ से तीन मील दूरी की तरह। शायद नीचे ग्वाडालूप में.... खैर कोर्इ बात नहीं: रोमन कैथोलिक र्इसार्इ।
यह आष्चर्यजनक नहीं है कैसे बस शैतान ही एक झूठा शिक्षण सिखाता है जो दुनिया के विभिन्न भागों में बस व्यक्त करता है, जहां वह एक महिला देवता की इस झूठी पूजा को सिखाता है। यह रक्त का खाना और ये सभी चीजें एक जैसी ही हैं, और हिंदू धर्म में और अधिक समानताएं हैं जो हमें मिल जाएगीं।
लेकिन जॉन के अध्याय 8 में देखो। हम इशायाह 43 से शुरू करते हैं। मैं चाहता हूँ कि आप एक उंगली इशायाह 43 में और दूसरी उंगली जॉन के अध्याय 8 में डालें क्योंकि  ये दो शास्त्र एक साथ चलते हैं, और वे बहुत महत्वपूर्ण हैं। अब कुछ लोगों ने इशायाह पर विचार किया है, इशायाह की पुस्तक... वे इसे छोटी बाइबल कहते हैं क्योंकि यह दिलचस्प है इशायाह के 66 अध्याय हैं और बाइबल की 66 किताबें है, और यह वास्तव में अद्भुत है अगर आप बाइबल की 66 पुस्तकों के साथ इशायाह के 66 अध्यायों की तुलना करेगें, उनमें अद्भुत समानताएं हैं उन्हें एक संयोग के रूप में लिखना कठिन है।
जैसे, उदाहरण के लिए, अध्याय 39, के अंत में इशायाह में प्रमुख गति परिवर्तन हुआ है। अध्याय 40-66 पूरी तरह से अध्याय 1-39 से अलग हैं। यह 39 किताबों के पुराने इच्छा पत्र की तरह और 27 पुस्तकों के नए इच्छा पत्र की तरह है। आपको अध्याय 1 में समानताएं मिलेगीं। यदि आप इशायाह के अध्याय 5 की ड्यूट्रोनोमी के साथ तुलना करेगें, तो उसमें पुरानी बाइबल के साथ बहुत सारी समानताएं हैं।
सभी प्रकार की समानताएं। जॉन की पुस्तक के अध्याय 43 में, रोम के लोगों की पुस्तक के 45 अध्याय उद्धृत है, और आप रहस्योद्घाटन और अध्याय 66 के बीच समानताएं पाते हैं। सूची आगे और आगे चलती जाती है। यह बहुत दिलचस्प है, लेकिन एक बात है जो दिलचस्प है जब आप इशायाह 43, के साथ जॉन की पुस्तक के इस उद्धृत की तुलना करते हैं जो वही समतुल्य अध्याय होगा। देखो जॉन 8:24 में बाइबल क्या कहती है ।
वह कहती है, ‘‘मैंने आपसे कहा इसलिए, आप अपने पापों के कारण मर जाएगें: अगर आप नहीं मानते कि मैं वह हूँ, आप अपने पापों के कारण मर जाएगें।’’ अब इससे यीशु का क्या, मतलब है? जब वह कहता है, ‘‘अगर आपको विश्वास नहीं है कि वह मैं हूँ, आप अपने पापों के कारण मर जाएगें’? विश्वास करें कि आप कौन हैं? क्योंकि वह कहता है, ‘अगर आपको विश्वास नहीं है कि वह मैं हूँ, आप अपने पापों के कारण मर जाएगें।’’
हम इशायाह 43:10 को देखते हैं, और बाइबल यह कहती है: ‘‘तुम मेरे प्रमाण हो, भगवान ने कहा, और मेरे नौकर जिनके द्वारा मैं चुना गया हूँ: आपको पता हो सकता है और मुझपर विश्वास है, और समझते हो कि मैं वह हूँ: मुझसे पहले कोर्इ भगवान नहीं बना था, और न ही मेरे बाद होगा। मैं, यहाँ तक कि, मैं भगवान हूँ; और मेरे बगल में कोर्इ उद्धारकर्ता नहीं है।’’ तो यीशु का मतलब यह है कि जब उन्होंने कहा, ‘‘कि यदि आप विश्वास नहीं करते कि मैं वह हूँ, और फिर आप अपने पापों के कारण मर जाएगें?’’
उन्होंने कहा कि यदि आपको विश्वास नहीं है कि केवल मैं उद्धारकर्ता हूँ, अगर आपको विश्वास नहीं हैं कि वह मैं हूँ और कोर्इ नहीं है। देखें, आप यीशु में विश्वास नहीं करते और मुक्ति के अन्य तरीकों में विश्वास और किसी अन्य ‘‘सुरक्षित कृपा’’ पर विश्वास करते हैं।’’ नहीं, आपको विश्वास है कि वह है, और यह कि वह अकेला ही है, या बाइबल कहती है आप अपने पापों के कारण मर जाएगें।
बाइबल कहती है, आपको सच्चे दिल से यीशु पर विश्वास करना चाहिए, यीशु के अलावा किसी और में विश्वास नहीं करना चाहिए और इसलिए वह यहाँ कहता है, ‘‘वह मैं हूँ, और वहाँ और कोर्इ नहीं है। मुझसे पहले कोर्इ भगवान नहीं था, और न ही मेरे बाद होगा। मैं, यहाँ तक कि, मैं भगवान हूँ; और मेरे बगल में कोर्इ उद्धारकर्ता नहीं है।’’
इसलिए जब हरे कृष्ण या हिन्दू जो कोर्इ भी आपको बताने का प्रयास करता है, ओह, अच्छा  हम भी यीशु में विश्वास करते हैं, ‘‘यह पर्याप्त नहीं है क्योंकि वे विशेष रूप से यीशु में विश्वास नहीं करते क्योंकि वे अन्य देवताओं में और मुक्ति के अन्य तरीकों, अन्य शास्त्रों में विश्वास करते हैं। यह बाइबल का यीशु हो सकता है। देखें, कर्इ हिंदू तो यहाँ तक भी कहते हैं, ओह, हाँ, हम मानते हैं कि यीशु एक महान शिक्षक थे, ‘‘और कर्इ हिन्दूओं ने भी सिखाया है कि यीशु ने अपनी किशोरावस्था के दौरान कहा हैं (क्योंकि वास्तव में आपने बाइबल में उनकी किशोरावस्था के बारे में नहीं पढ़ा) ‘‘ओह, अच्छा वह भारत गए और हिंदू धर्म सीखा और फिर वह वापस आए और फिर इसराइल में एक महान योगी थे।
इसलिए वे कहते हैं। इसलिए वे सिखाते हैं, और वे दावा करने की कोषिष करते हैं कि यीशु वहाँ पर गए और उनका धर्म सीखा और इसे वापस लाए, और जो कुछ भी, और इसलिए वे अक्सर आपको बताते हैं, ‘‘ओह, हाँ, यीशु, हम यीशु में विश्वास करते हैं।’’ लेकिन भरोसा करते हैं। क्या यह बाइबल का यीशु है जिसमें वे विश्वास करते हैं? जवाब नहीं है। बल्कि अब वे एक व्यक्ति जिसे कृष्ण भी कहा जाता है, ‘‘हरे कृष्ण’’ के रूप में विश्वास करेंगें।
वे एक व्यक्ति जिसका नाम कृष्ण है में विश्वास करते हैं जो मांस वाला भगवान था और वर्जिन से पैदा हुआ था। कल्पना कीजिए। और लोग कहेगें कृष्ण ¾ मसीह है, लेकिन यह ‘‘यीशु,’’ का नाम है बस मसीह का नहीं। यह यीशु हो गया है, और यह बाइबल का यीशु हो गया है क्योंकि यीशु शब्द मांस से बनता था।
बाइबल कहती हैं, ‘‘षुरू में प्रंषसा था, और प्रंषसा परमेश्वर के साथ थी, और प्रंषसा परमेश्वर के साथ थी। और प्रंषसा मांस मे बदल गयी है और हमारे बीच, निवास करती है और महिमा को पिता के रूप में, पूरे अनुग्रह और सच्चार्इ के साथ हम उसकी महिमा को आयोजित करेगें, ‘‘तो आप व्यक्ति यीशु को उनकी प्रंषसा से अलग नहीं कर सकते क्योंकि वह प्रंषसा से मांस बना दिया गया है।
इसलिए यदि आपके पास पूरी तरह से अलग अलग शब्द है अगर आपके पास पूरी तरह से अलग अलग शास्त्र है, तो आपके पास एक अलग यीशु है। आपके पास बाइबल के यीशु जरुर होने चाहिए, और आपको अपनी सभी आस्था और विश्वास उसमें डाल देना चाहिए और कुछ नहीं। केवल यही नहीं, लेकिन हमने महसूस किया है कि शैतान महान जालसाज है, इसलिए वह अक्सर इसे विश्वसनीय बनाने के लिए झूठ के साथ एक छोटा सा सच का मिश्रण करेगा । और इसलिए जाहिर है, हिन्दू धर्म और र्इसार्इ धर्म में समानताएं, हो सकती हैं क्योंकि शैतान जालसाज है।

अब सबसे दिलचस्प चीज यह है कि अगर तुम वापस सबसे पुराने पर जाते हो, सबसे महत्वपूर्ण हिंदू शास्त्र - वे सब इनके विभिन्न शास्त्र, वैदिक साहित्य और पुराण और जो कुछ - भी है, लेकिन अगर तुम वापस सबसे पुराने पर जाते हो, सबसे महत्वपूर्ण शास्त्र, इसे मनु का कानून कहा जाता है, और यहाँ दिलचस्प यह है: मनु एक व्यक्ति है जो.. असल में, अत्यधिक बाढ़ के कारण, पूरी दुनिया नष्ट हो गर्इ थी और उसने विशालकाय नाव का निर्माण करने और उस नाव को पाने की चेतावनी दी थी, और इसलिए वह बाढ़ से बच गया और फिर इस धरती पर हर व्यक्ति उसके वंषज हैं।
अब क्या यह परिचित ध्वनि है? यह सिर्फ नूह की तरह है, और यह हास्यास्पद है क्योंकि ‘‘मनु’’ और ‘‘नूह’’ के बीच भी आप नामों में समानता देख सकते हैं, और यह पुस्तक वापस 1000-2000 र्इ. पू. में चली जाती है। यह सचमुच 3000-4000 वषोर्ं पहले का समय है जब यह पुस्तक लिखी गर्इ थी, और क्या यह दिलचस्प नहीं है कि भगवान ने बाढ़ से पूरे विश्व को नष्ट कर दिया यह इसके बारे में कहानी कहती है। एक व्यक्ति सभी मानव जाति का पूर्वज है।
अब यह दिलचस्प है क्योंकि इस दुनिया के नास्तिक और खिल्ली करनेवाले उसे देखेगें और कहेगें, ‘‘ओह, देखो, र्इसार्इ धर्म सिर्फ इन अन्य धमोर्ं की प्रतिलिपि बना रहा है,’’ लेकिन यह केवल इसलिए है क्योंकि उन्हें शैतान द्वारा अंधा कर दिया गया है इसलिए वे देख नहीं कर सकते कि क्या स्पष्ट है। यह आपके चेहरे पर नाक के रूप में मैदान है! यही कारण है कि दुनिया में सभी अलग अलग धमर्ं बाढ़ के बारे में, एक ही कहानी बताते हैं, क्या वास्तव में ऐसा हुआ था! यह कहना मूर्खता है, ‘‘ओह, उन्होने बस इस कहानी को उधार लिया है।
नहीं, पूरी दुनिया में अलग अलग संस्कृतियाँ, एक दूसरे से पूरी तरह से अलग हैं, सभी जगह बाढ़ के बारे में एक ही कहानी ने जगह ली है। तो जाहिर है कि ऐसा था क्योंकि वास्तव में वहाँ बाढ थी़, वे सभी जिसके बारे में बात कर रहे हैं। और यह समय सीमा दिलचस्प है जब किताब लिखी गर्इ थी क्योंकि अगर आपको लगता है कि जब बाढ़ आर्इ थी, यह लगभग 2500-2700 वषर्ं मसीह से पहले का समय था।
अलग अलग लोग तारीख के बारे में बहस करेंगे, लेकिन फिर, इसका अर्थ है कि एक किताब जो भारत में लगभग 4000 साल पुरानी है वह उनका सबसे महत्वपूर्ण शास्त्र है, तथ्य यह है कि वहाँ बाढ़ थी, और सब लोग उस व्यक्ति के वंषज है क्योंकि हर कोर्इ बाढ़ में नष्ट हो गया था। जाहिर है जब बेबल के टॉवर में कोलाहल की घटना घटी, लोग हर जगह बिखरे हुए थे, और उनमें से कुछ भारत में चले गए। जाहिर है कि वे अपने साथ इस महत्वपूर्ण कहानी को ले गए। यह एक बहुत बड़ी कहानी है जो आपको बताने जा रहे हैं, और आप इसे लिखने जा रहे हैं।
हालांकि, शैतान तो महान जालसाज निकला। वह बाढ़ और नूह - के बारे में सच्ची कहानी लाता है - सच्ची कहानी, सच में हुआ था-  लेकिन फिर वह इसे मोड़ देता है और इन सब झूठी शिक्षाओं को उनकी पुस्तक में डालता है, जबकि बाइबल के खाते सच्चे हैं और भगवान के सभी शब्द सच्चे है। यहाँ हिंदू धर्म के बारे में एक और बड़ी बात है। हब्रियों के अध्याय 9 पर जाओ। हिंदू धर्म के बारे में एक और बड़ी बात यह है कि वे पुनर्जन्म में विश्वास करते हैं। यह हिन्दू धर्म का विशाल शिक्षण है।
यह उनके सबसे महत्वपूर्ण विश्वासों में से एक है। उनका मानना है कि लोग लगातार मृत्यु चक्र पर हैं और जन्म और पुनर्जन्म लेते हैं। यहाँ पुनर्जन्म होता है और मूल रूप से आप क्या करने जा रहे हैं यह निर्धारित है और जगह कितना अच्छी है जहां दूसरी और तीसरी बार और चौथी बार तुम पैदा हुए हो। यह पुनर्जन्म का चक्र है। लेकिन क्या बाइबल पुनर्जन्म सिखाती है? अच्छा, हब्रियों के 9:27 में देखें।
यह कहती है, ‘‘और यह नियुक्त है कि मनुश्य एक बार मरता है, लेकिन इस के बाद यह फैसला है: तो मसीह एक बार कर्इयों के पापों को सहन करने की पेशकश करता था; और उन्हें देखने के लिए उनको मोक्ष के लिए पाप के बिना दूसरी बार प्रकट करेगा।’’ तो बाइबल का कहना है कि मनुश्य के लिए मरना एक बार नियुक्त किया गया है, और इस के बाद यह फैसला है। यहाँ कोर्इ पुनर्जन्म नहीं है। केवल यही नहीं, लेकिन अगर हिंदू यीशु में विश्वास करने का दावा करते हैं, वे उसकी मौत में, कब्रिस्तान और शारीरिक जी उठने में विश्वास नहीं करते। यह र्इसा मसीह का उपदेष है।
वे मानते हैं कि यीशु की मृत्यु और पुर्नजन्म था, और पुर्नजन्म होता रहता है जब इसार्इ धर्म के विरुद्ध बात आती है, तो वे कहेंगे कि, ‘‘यहाँ फिर से वह है! एक बार फिर से पुर्नजन्म!’’ अब सब गेलेटियंस 6 पर जाएँ... हर किसी ने ही ‘‘कर्म’’ शब्द सुना होगा। अब मैं कहता हूँ: कि यह वो शब्द नहीं है जो बाइबल पर विश्वास करने वाले र्इसाइयों द्वारा उपयोग किया जाता है, और आज हमारी अमेरिकी संस्कृति में, सभी कर्म और बुरे कर्म और अच्छे कर्म के बारे में बात कर रहे हैं। हम हिंदू धर्म की तरह क्यों झूठे शब्दों का प्रयोग करेंगे?
बाइबल कहती है, हमें उन शब्दों का उपयोग करना चाहिए जो हमें पवित्र आत्मा सिखाती है, उन शब्दों का नहीं जो मनुष्य की बुद्धि सिखाती है। यहाँ पवित्र आत्मा क्या सिखाती है: गेलेटियंस 6:7 ‘‘धोखा नहीं दें; भगवान की खिल्ली नहीं उड़ाएं: जो भी मनुश्य बोएगाा, वही काटेगा। ओह, किसी हद तक कर्म की तरह ... नहीं, यह कर्म की तरह नहीं है! यह गेलेटियंस 6:7 की तरह है। यह बुवार्इ और कटार्इ की तरह है। यह कटार्इ की तरह है जो तुमने बोया है। यह कर्म की तरह नहीं है।

अब दिलचस्प यह है हालांकि ‘‘कर्म,’’ सचमुच में संस्कृत की मूल भाषा का शब्द है, प्राचीन भारतीय भाषा, ‘‘कर्म,’’ शब्द का वास्तव में मतलब है ‘‘काम करता है।’’ काम करता है। इसका मतलब है ‘‘कर्म’’ या ‘‘काम करता है’’ या ‘‘क्रिया’’ है जो आप करते हैं। तो क्या यह दिलचस्प नहीं है कि हिंदू धर्म के अनुसार, मोक्ष काम द्वारा मिलता है। क्योंकि जिनके अच्छे कर्म हैं उनका पुर्नजन्म बेहतर तरीके से हो रहा है, और फिर अंतत: वे एक राज्य तक पहुँच जाते हैं, लेकिन स्वर्ग की तरह नहीं, वे अंतहीन पुनर्जन्म का चक्र खत्म करते हैं। वे उस शिखर बिंदु या जो कुछ भी तक पहुंच जाते हैं, और उन्हें वहाँ क्या मिलता है? काम करता है।
वे सचमुच क्या कह रहे हैं जब वे ‘‘कर्म’’ कहते है। ‘‘वे कह रहे हैं ‘‘काम करता है।’’ और बाइबल कहती है मोक्ष ‘‘काम से नहीं मिलता, हालांकि किसी भी आदमी को घमंड नहीं होना चाहिए।’’ बाइबल कहती है, ‘‘ आप विश्वास के माध्यम से, कृपा के कारण बच रहे हैं, और अपने आप से नहीं, यह परमेश्वर का उपहार है: काम का नहीं, हालांकि किसी भी आदमी को घमंड नहीं होना चाहिए,’’ और बाइबल स्पष्ट रूप से सिखाती है कि अनुग्रह और काम करना अनुकूल नहीं हैं। क्योंकि ‘‘अगर अनुग्रह है, तो कोर्इ और अधिक काम नहीं करता।’’ असल में वह कह रहा है कि अगर अनुग्रह है, तो यह कर्म नहीं  है जो तुम वहाँ पाने के लिए जा रहे हो।
वह कहता हैं, ‘‘अगर अनुग्रह है, तो कोर्इ और अधिक काम नहीं करता, नहीं तो अनुग्रह और अधिक अनुग्रह नहीं है। लेकिन अगर यह काम करता है, तो यह और अधिक अनुग्रह नहीं है। नहीं तो काम और अधिक काम नहीं है। यह दोनों हो सकते हैं। और वे कहते हैं, ओह, ‘‘लेकिन अगर हम ये अच्छे काम करते हैं, तो हम अनुग्रह प्राप्त करेंगे।’’ यह हिन्दू सिखाता है। नहीं. गलत। आपको कायोर्ं को करने से अनुग्रह प्राप्त नहीं होता। यह “ाब्दों का विरोधाभास है।
अनुग्रह नाहक एक एहसान है। जो आपके लायक नहीं है वह अनुग्रह प्राप्त कर रहा है, और हालांकि किसी भी आदमी को घमंड नहीं होना चाहिए। इसलिए यह ‘‘कर्म’’ शब्द एक शब्द नहीं है जो हम र्इसाइयों द्वारा प्रयोग किया जाना चाहिए। हमें र्इसार्इ शब्दावली का प्रयोग करने की आवष्यकता है और इस हिंदू शब्दावली का प्रयोग नहीं करना चाहिए और अब इसे हमारी मानसिकता में फैलाने और हमारी स्थानीय भाषा में प्रयोग करने की जरूरत है।
1 थीसालोनियंस के 4 पर जाओ। हिंदू धर्म का एक और झूठा शिक्षण है वे कहते हैं कि ‘‘लोग स्वर्ग में या नरक में जाते है, लेकिन यह सिर्फ अस्थायी है। उन्हें सजा मिलती है, या वे पुरस्कृत होते हैं, लेकिन फिर उनका जन्म होता है, और उन्हें पुनर्जन्म मिलता है, तो यह अस्थायी है। ‘‘लेकिन बाइबल सिखाती है कि दोनों को सुरक्षित किया जा रहा है और स्वर्ग में, और नरक में जा रहा है, बाइबल के अनुसार दोनों स्थायी स्थितियाँ हैं। 1 थीसालोनियंस के 4:7 को देखो।
यह कहते हैं, फिर जो हम बादलों में उनके साथ मिलकर और जिंदा रहते हैं, प्रभु से हवा में मिलेगें:’’ इसे देखो, ‘‘और इसलिए क्या हम कभी भी भगवान के साथ रहेगें।’’ एक बार जब हम स्वर्ग में प्रभु के साथ जुड़ जाते हैं, बाइबल का कहना है कि हम हमेषा भगवान के साथ रहेगें। यह अस्थायी नहीं है ‘‘भगवान के साथ रहें, फिर भगवान के साथ नहीं रहें’’। अब आप कहते हैं, ‘‘ठीक है, लेकिन नए स्वर्ग और नर्इ पृथ्वी में, हम इस धरती पर रहने के लिए नहीं जा रहे हैं?’’
हाँ, लेकिन हम इस पृथ्वी पर मसीह के साथ आधिपत्य और शासने करने जा रहे हैं, हम भगवान के साथ जा रहे हैं। मैं आप के लिए इस सिद्धांत को तोड़ता हूँ। यह महत्वपूर्ण है कि हम र्इसाइयों को पता है कि हम बाइबल पर कितना विष्वास करते हैं और स्वर्ग के कौन से सिद्धांत हैं । बाइबल यह सिखाती है: यदि आप किसी सुरक्षित व्यक्ति के रूप में आज, मर रहे हैं, और आपके अंदर, यीशु मसीह है तो आप सुरक्षित हैं, अगर तुम अपनी आखिरी साँस ले रहे हो, उस पल आपकी आत्मा स्वर्ग में होगी। कोर्इ आत्मा नहीं सोती या कब्र में इंतजार नहीं करती।
आपका शरीर कब्र में इंतजार कर रहा है, लेकिन आपकी आत्मा तुरन्त स्वर्ग में चली जाती है क्योंकि बाइबल कहती है, ‘‘शरीर से अनुपस्थित होना भगवान के साथ उपस्थित होना है।’’ पॉल ने कहा, ‘‘मेरी रवाना होने की इच्छा है और मसीह जो सबसे बेहतर है के साथ रहने की इच्छा है। मेरे लिए मसीह के लिए जीना और मरना लाभदायक है। शरीर से अनुपस्थित होने के लिए भगवान के साथ उपस्थित होना है।’’ जब मसीह बादलों में आ रहा है तो यह घटित होता है 1 के थीसालोनियंस 4 -में अक्सर उत्साह के रूप में किसे जाना जाता है  ।
यह कहता हैं वे जो यीशु में लीन हैं उन्हें भगवान अपने साथ ले जाते हैं। जब मसीह इस धरती पर वापस आते हैं, वह उन्हें अपने साथ बादलों में ले जा रहे हैं, और फिर वे उनके साथ स्वर्ग में होते हैं। फिर वह इस पृथ्वी पर अपना राज्य सेट अप करता है, वे आते हैं और उसके साथ इस धरती पर शासन करते हैं। फिर अंत में, वहाँ एक नया स्वर्ग और एक नर्इ पृथ्वी, भेड़ के बच्चे उन के बीच रहने के लिये जा रहे हैं। एक बार फिर बच गए, हमारा इस धरती पर, पुनर्जन्म नहीं हैं या हमारे मोक्ष का खोना, या स्वर्ग में जाना, और फिर बाहर, निकालना या जो भी हो। नहीं. एक बार यदि आप बच गए हैं, आप कभी भी भगवान के साथ हो सकते हैं।
क्या यह स्वर्ग में, या इस पृथ्वी पर हजार साल के शासनकाल में, या एक नए स्वर्ग में और एक नर्इ पृथ्वी में है। या फिर जिस तरीके से अनंत काल के लिए आप भगवान के साथ जा रहे हैं। आप यीशु के साथ जा रहे हैं, और यह बात है। अब नर्क का भी वही तरीका है। मैं इस पर आपको केवल एक त्वरित कविता दूंगा: रहस्योद्घाटन 20:10 ‘‘और शैतान जिसने उन्हें धोखा दिया आग और गन्धक की झील में डाला था, जहां जानवर और झूठे पैगम्बर हैं, और उन्हें दिन और रात हमेषा के लिए और हमेषा के लिए सताया जाएगा।’’
सिर्फ एक मामले में आपको हमेशा के लिए पहला नहीं मिला, उसने कहा, उन्हें दिन और रात हमेशा हमेषा के लिए सताया जाएगा, बस कहने का मतलब यह है कि नरक शाश्वत है। यह पूरे धर्मोपदेश में है।
तो ड्यूट्रोनोमी के अध्याय संख्या 4 पर पलटें। मैं निष्कर्ष देना चाहता हूँ। लेकिन इससे पहले मैं हिंदू धर्म की झूठी शिक्षाओं की एक त्वरित समीक्षा करता हूँ। झूठी शिक्षाएं क्या हैं? खैर, नंबर एक, वे सिखाते हैं कि भगवान को किसी भी नाम से बुलाया जा सकता है - यह महत्वपूर्ण नहीं है।
बाइबल कहती है यह महत्वपूर्ण हैं कि भगवान को किस नाम से बुलाया जाता है। उसने यह भी कहा कि झूठे देवताओं के नाम को अवमानना में आयोजित किया जाना चाहिए, उन्हें पुकारा नहीं जाना चाहिए, उनका उल्लेख नहीं किया जाना चाहिए, और उन्हें भूल जाना चाहिए और नष्ट कर दिया जाना चाहिए। यह उसने अन्य देवताओं के नामों के बारे में कहा। तो यह प्रमुख झूठा शिक्षण है। नंबर दो; वे यीशु का नाम उद्धारकर्ता, सर्वशक्तिमान, एक सच्चे परमेश्वर के रूप में कबूल नहीं करते।
नंबर तीन, हमें पता चला है कि हिंदू धर्म के भगवान वास्तव में शैतान है क्योंकि उसका प्रतिनिधित्व मूर्ति पूजा द्वारा किया गया है। बाइबल का कहना है कि जो मूर्तियों के लिए बलिदान शैतानों के लिए त्याग कर रहे हैं। हम भी जानते हैं कि उनके भगवान के पास बाइबल के परमेश्वर की तरह विशेषताएं नहीं है। उदाहरण के लिए, उसे बहुत जल्दी क्रोध आता है और वह पुरुष और महिला दोनों है।
ये बाइबल के परमेश्वर की विशेषताएं नहीं हैं। हिन्दू धर्म के भगवान स्पष्ट रूप से शैतान हैं क्योंकि उसकी छवियाँ सर्प और खोपड़ी और सभी इन राक्षसी प्रकारों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो हमारी बाइबल के संस्करण के साथ संबद्ध होता है शैतान कौन है (और शैतान)। वे सचमुच शैतान की - पूजा कर रहे हैं या वे एक महिला देवी की पूजा कर रहे हैं जो शास्रीय –श्टि से पूरी तरह से विदेशी कौन सा भगवान है, मर्दाना है। और केवल यही नहीं, यहां तक कि अगर वे कृष्ण या जो किसी में भी विश्वास का दावा करते हैं, यह बाइबल के यीशु नहीं है।
वे पुनर्जन्म में विश्वास करते हैं, हम एक बार शारीरिक रुप से जीने में - यह नियुक्त है, कि मनुश्य को एक बार मरने के बाद पुनर्जीवित किया जा सकता है। वे कर्म द्वारा मोक्ष में विश्वास करते हैं, जिसका अर्थ उनकी भाषा में काम द्वारा मोक्ष से है। हम विश्वास द्वारा अनुग्रह के माध्यम से मोक्ष में विश्वास करते हैं, काम द्वारा नहीं। हम कोर्इ भी अनुष्ठान नहीं करते, हमारे पास बातें मंत्र या बलिदान देने की पेशकश या मंदिर में जाने और हमें संस्कार और अनुष्ठान का प्रदर्शन करने की जरूरत नहीं है, हमारे पास मंत्र और सुरक्षित रहने के लिए योग नहीं है।
उनके कायोर्ं और कमोर्ं से उन्हें लगता है कि वे उन्हें मोक्ष दिलाएगें, जबकि, हम विश्वास द्वारा अनुग्रह के माध्यम से मोक्ष में विश्वास करते हैं। उनका मानना है कि स्वर्ग और नरक अस्थायी राज्य हैं, हम मानते हैं कि स्वर्ग और नरक अनन्त हैं। और यह कि एक बार आप बच गए हैं, तो आप हमेशा बचेगें, और यह कि एक बार जब आप यीशु मसीह के बिना मर जाते हैं और नर्क की आग की लपटों में प्रवेश करते हैं, तो आप हमेशा के लिए बर्बाद और नष्ट हो जाएगें।
इसलिए हम देख सकते हैं कि हिंदू धर्म स्पष्ट रूप से एक झूठा धर्म है, बाइबल से स्पष्ट रूप से अलग, स्पष्ट रूप से एक शैतानी धर्म, बहुत दुष्ट - तो निष्कर्ष क्या है? अच्छा सबसे पहले, इस धर्मोपदेष का उपदेश देने का उद्देश्य कहना चाहता हूँ कि जॉयल और अन्य दुनियावी शिक्षकों की झूठी शिक्षाओं से बचना, ‘‘अरे, हममें बहुत कुछ आम है और हम वास्तव में एक ही परमेश्वर की पूजा कर रहे हैं क्योंकि हम सब भगवान, जो किसी भी नाम का उपयोग करके प्रार्थना कर रहे हैं।’’
आपको पता है, हम इन अंतिम दिनों में उन झूठी शिक्षाओं का मुकाबला और बाइबल र्इसार्इ धर्म और इन झूठे धमोर्ं के बीच के अंतर को इंगित करना चाहते हैं और झूठे धर्म के साथ एकजुट होने की तलाश नहीं। इसे इक्यूमैनिकेलिज्म कहा जाता है। इक्यूमैनिकेलिज्म का अर्थ है ‘‘सभी धमोर्ं को एक साथ लाना और चलो अपने मतभेदों को एक तरफ रखते हैं।’’ बाइबल यह सब नहीं सिखाता है - यह र्इसार्इ धर्म के विरुद्ध भावना सिखाती है।
आपने इस प्रवचन को सुना मैं उम्मीद कर रहा हूँ, जो उपदेष के साथ हिंदुओं तक पहुँचना चाहते हैं उनके दिल में हलचल हो जाएगी क्योंकि ये लोगों को अंधविष्वासी करते हैं। वे ऐसा प्रारंभ से मानते हैं। यह नहीं है कि उन सबको सिर्फ शैतान की पूजा करने के लिए चुना। नहीं, वे इस झूठे धर्म में पैदा हुए हैं, उन्हें ऐसा बड़ा होते समय सिखाया गया है। वे अंधविष्वास कर रहे हैं, उन्हे धोखा दिया गया है। जॉयल ऑस्टीन ने कहा, ‘‘अरे, वे वास्तव में अच्छे हैं, दयालु लोग हैं।’’
मुझे यकीन है कि वे हैं, मुझे विश्वास है कि वे बहुत ही शांतिपूर्ण, अच्छे, दयालु लोग हैं, -लेकिन नरक में जाने वाली सड़क को अच्छे इरादों के साथ प्रशस्त किया गया है और किसी को उनके लिए उपदेष देने की जरूरत है और यीशु मसीह के गौरवशाली उपदेष के प्रकाश में इतनी चमक है कि उन्हें बचाया जा सकता है। लेकिन अगर हमारा उपदेष छिपा दिया, तो उन्हें छिपा दिया गया है जो उनमें खो रहे हैं दुनिया का देवता उन के मन को अंधाविष्वासी बना देगा जो विष्वास नहीं करते। और आप कहते हैं ‘‘अच्छा, मुझे भारत के लिए एक यात्रा करने की आवश्यकता है? मैं नहीं जानता कि मैं उस के साथ सहज महसूस करुंगा।
लेकिन यहाँ एक बात है: आपको भारत के लिए यात्रा करने की जरूरत नहीं है, आपको एएसयू की यात्रा करने की आवश्यकता है और आपको साउथ टैम्पे की यात्रा करने की आवश्यकता है। मेरी बात सुनो. मैं कभी आत्मा जीतने वाले कम से कम एक हिन्दू के दरवाजे दस्तक दिए बिना अच्छे पड़ोसी की तरह साउथ टैम्पे नहीं गया। कभी नहीं। और लोगों से मिशनों के बारे में और सभी यात्राओं के बारे में बात करना चाहता हूँ। देखो मैं मिशनों के खिलाफ - नहीं हूँ, लेकिन क्या तुम्हें पता है?
यहाँ पर यह ठीक है! हवार्इ जहाज का टिकट बचाओ और अपने पैसे बचाओ। विदेशी देश में जाना और एक मिशनरी होना महान है। क्योंकि क्या तुम जानते हो? यदि आप यीशु मसीह के उपदेष के साथ, भारतीयों तक पहुँचना चाहते हैं, तो आप सबको साउथ टैम्पे जाना चाहिए और उनके पड़ोस में दरवाजे पर दस्तक देनी चाहिए।
या, यदि आप अन्य हिंदुओं से बात करना चाहते हैं जो शायद बेहतर अंग्रेजी बोल रहे हैं और अधिक आदरणीय हैं, तो आप एएसयू के परिसर में जा सकते हो। मैं कभी आत्मा जीतने वाले कम से कम एक हिन्दू के दरवाजे पर दस्तक दिए बिना अच्छे पड़ोसी की तरह एएसयू नहीं गया। हाँ, वे वहाँ ऊपर हैं। वे छात्र हैं, और वे सभी इंजीनियरिंग का अध्ययन कर रहे हैं। हर एक। तुम हमेशा उनसे पूछो, ‘‘ओह, आप क्या अध्ययन कर रहे हैं?’’ इंजीनियरिंग।
लेकिन मैं आपको बता रहा हूँ, आप चीनी तक पहुँच सकते हैं, और आप भारतीयों तक पहुंच सकते हैं। एएसयू में हजार से ऊपर विदेशी छात्र हैं, और आप सिर्फ दरवाजे पर दस्तक देंगे, अगर यदि आप बस दिल जीतने जा रहे हैं तो आप उन्हें उपदेष दे सकते हैं। और उनके बारे में महान बात यह है कि उनमें से ज्यादातर अंग्रेजी बोलते हैं। और वैसे भी, यहाँ तक कि अब भारत में बहुत से लोग स्वयं अंग्रेजी बालते हैं ।
भारत में अंग्रेजी अपने आप में एक प्रमुख भाषा है, और इसलिए वहाँ भी इन लोगों के साथ भाषा बाधा नहीं है। उपदेष के साथ इन लोगों के पास पहुंचा जा सकता है, और वे अक्सर उपदेष सुनते हैं और उपदेष के लिए ग्रहणशील रहते हैं। लेकिन कौन जाएगा और उनके दरवाजे पर दस्तक देगा और हर प्राणी में उपदेष का प्रचार करेगा? आप देखो, बस हमारे मुंह का साहसपूर्वक खोलना और परमेश्वर का वचन बोलनकर उपदेष के साथ इस तरह से उनतक पहुँच सकते हैं ।
आप कहते हैं, ‘‘ठीक है, मैं हिंदुओं के लिए सिर्फ एक विशेष प्रस्तुति नहीं जानता।’’ देखो, आपको प्रत्येक धर्म के लिए उपदेष की विशेष प्रस्तुति की जरूरत नहीं है। एक ही तरह का उपदेष सबको बचाता है। आपको बस इसके माध्यम से जाना है और उन्हें बताएं कि वे एक पापी हैं और उन्हें नरक दिखाएं, और उन्हें मसीह का जीवन और उसकी मौत, कब्रिस्तान और फिर से जी उठना दिखाएं ।
उन्हें दिखाएं यह एक मुफ्त उपहार है; उन्हें दिखाएं कि यह विश्वास के द्वारा है। शायद कुछ चीजें जो आपने इस प्रवचन में सुनी हो सकता है कुछ बातें आप अपने उपदेष की प्रस्तुति के अंत में इंगित करना चाहते हों। मैं हमेशा सबको एक ही तरीके से उपदेष देना शुरू करता हूँ। सभी जटिल होने के बजाय, आप सिर्फ उन्हें उपदेष क्यों नहीं देते? क्योंकि हर किसी के लिए मोक्ष र्इश्वर की शक्ति है, पहली बार यहूदी के लिए विश्वास और ग्रीक के लिए भी- और हिंदू के लिए भी है? मौत, कब्रिस्तान और मसीह का फिर से जी उठने का उपदेष भगवान की शक्ति है इससे कोर्इ फर्क नहीं पड़ता कि आपको यह कौन कह रहा है।
तो आपके पास मोक्ष के लिए कुछ अनुकूलित योजना हिंदुओं को दिखाने के लिए नहीं है। नहीं, आप दिखाएं, और आप मोक्ष की योजना दें। लेकिन मोक्ष की योजना के अंत में, जब आप एक बार पूरा उपदेष सुन लेगें और योजना बनाएगें, फिर अंत में, शायद आप जोर दे सकते हैं कि सभी की आस्था यीशु पर हो गर्इ है। आप अन्य देवताओं का त्याग जिनकी पूजा कर रहे हैं और स्वीकार करते हैं कि यीशु ही सच्चे परमेश्वर है ।
हो सकता है कि हिंदू के साथ तुलना किसी और की जो किसी अन्य मजहब या पृष्ठभूमि से आ रहा है कुछ जिसपर आप और अधिक जोर देना चाहते हैं। अंत में आपको और अधिक जोर देने की जरूरत है। लेकिन आप सफेद लोगों को उपदेष दे सकते हैं, आप काले लोगों को उपदेष दे सकते हैं, आप स्पेन के लोगों को उपदेष दे सकते हैं, आप किसी भी राष्ट्रीयता को उपदेष दे सकते हैं।
यदि आप इसे किसी एक को दे सकते हैं, तो आप इसे अन्य को दे सकते हैं क्योंकि सभी जगह सबमें एक ही परमेश्वर को पुकारा जाता है। वहाँ एक समुदाय है, एक मार्ग है, एक र्इष्वर, एक विश्वास, एक र्इसार्इ धर्म, एक भगवान, और इसलिए हमें हिंदुओं को उपदेष प्राप्त करने की आवश्यकता है। आपको भारत के लिए यात्रा करने की जरुरत नहीं है। अगर आप वहाँ जाना चाहते हैं, अच्छा है, लेकिन र्इमानदारी से, यहाँ यह ठीक हैं। यहाँ तक कि मैं आपको फीनिक्स, या स्कॉटसडेल, या मीसा भी जाने के लिए नहीं कहूंगा - यह यहाँ है, यह टैम्पे में है, यह हमारे शहर में है। ठीक है।
हजारों और हजारों और हजारों हिंदू हैं जो उपदेष के लिए फसल को पका रहे हैं। यही कारण है कि मैं घर-घर जाना पसंद करता हूँ। लेकिन र्इमानदारी से, यह सभी लोगों तक पहुंचने की आपको अनुमति देता है, यह आपको घरेलू और विदेशी सब मिशनरी की अनुमति देता है। बस बाहर जा रहे हैं और किसी के दरवाजे पर दस्तक दे रहे हैं। लेकिन मैं इस विचार को बस यहीं छोड़ता हूँ।
मुझे लगता है कि हिंदुओं को सुरक्षित करने में एक बड़ी बाधा यह है (और यह सभी राष्ट्रीयताओं के लिए साथ ही साथ हिंदुओं के लिए है) कि हमने अमेरिकियों के रूप में अपने प्रमाण को बर्बाद कर दिया है नास्तिक और दुष्ट और सांसारिक रास्ते से हम अपना जीवन जी रहे हैं। हमने अपने प्रमाण को बर्बाद कर दिया है। यह एक बड़ी बाधा है, और इसलिए हिंदुओं या मुसलमानों जैसे लोग या अन्य लोग उपदेष का आदर नहीं करते हैं। यह इसलिए है क्योंकि हम अमेरिकी र्इसाइयों के रूप में अपने प्रमाण को बर्बाद कर रहे हैं।
देखो ड्यूट्रोनोमी के अध्याय 4 में बाइबल क्या कहती है। यह विदेशियों के र्इसार्इ धर्मोपदेष के साथ हो सकता है। ड्यूट्रोनोमी 4:5 को देखो यह कहती है, ‘‘मुझे आपने विधियाँ और निर्णय सिखाए हैं, प्रभु मेरे भगवान मुझे आज्ञा देना, जो आपको करना चाहिए ताकि भूमि पर चाहे किसी स्थान पर आप इसे पास जाकर भी इसे निहारना। इसलिए उन्हें बनाए रखना; ‘‘यह देखो’’ यह राष्ट्रों की –ष्टि में आपके ज्ञान और आपको समझने के लिए है।’’
वह क्या कह रहा है? जब राष्ट्र आपके भगवान नाम को ध्यान में रखते हुए और परमेश्वर के वचन की आज्ञाओं का पालन करते देखेगें, आप उनकी –ष्टि में बुद्धिमान बन जाएगें। यह उन पर एक छाप बन जाएगा और वे इसे देखेगें। यह उनको बुद्धिमान बना रहा है। यह कोर्इ है जिसका वे सम्मान कर रहे है। वह कहता है कि आधे रास्ते के माध्यम से कविता 6 में ‘‘निश्चित रूप से इस महान राष्ट्र में बुद्धिमान और समझदार लोग हैं।
कौन सा राष्ट्र इतना महान है, जिसका भगवान उनके समीप है, हमारे परमेश्वर के रूप में सभी चीजों में र्इष्वर हैं जिसे हम पुकारते हैं? और कौन सा राष्ट्र महान है, जिसकी सभी विधियाँ और निर्णय इस कानून के रूप में धर्मी हैं, जो मैंने इस दिन आपसे पहले सेट किए हैं? ‘‘अब यहाँ मेरा प्रश्न है: क्या आपको क्या लगता है कि भारत में कोर्इ हॉलीवुड फिल्म देखता है और कहता है, ‘‘वाह, कौन सा राष्ट्र अमेरिका की तरह धर्मी है? वाह, वहाँ कौन सा राष्ट्र है जिसका भगवान उनके समीप है?
वहाँ कौन सा राष्ट्र है जहाँ ऐसे बुद्धिमान और धर्मी निर्णय और विधियाँ है?’’ नहीं, वे इसे देखते हैं और बेकार लेख के रूप में देखते हैं, और फिर क्या आप जानते हैं कि वे हमारी संस्कृति के बारे में क्या सोचते हैं? यह बेकार है। अब देखो: यह सिर्फ अमेरिका के लिए नहीं जाता क्योंकि जाहिर है हम, अपनी सरकार की मूर्खता या हॉलीवुड की मूर्खता, या मैडिसन एवेन्यू की मूर्खता पर नियंत्रण नहीं कर सकते।
हमारा उस पर कोर्इ नियंत्रण नहीं है, लेकिन हम कम से कम खुद को और अपने परिवारों को और अपने चर्च को नियंत्रित कर सकते हैं। हम कम से कम उपदेष की रोशनी से चमक सकते हैं, जो न केवल परमेश्वर की कृपा से मोक्ष और सत्य का उपदेश देता है, लेकिन यह लोगों को सम्मान का जीवन भी देता है। फिर जो कुछ हम भगवान के बारे में कहते हैं उसे सुनने में उन्हें रुचि होगी। हम भगवान के बारे में क्या कहते हैं कोर्इ क्यों सुनना चाहेगा जब आप दुष्ट, सांसारिक तरीके से अपना जीवन जीते हैं?
और वे शायद खुद के लिए सोच रहे हैं, ‘‘हम संभावित रुप से आप से अधिक नैतिक हैं। फिर क्यों हमें प्रभु यीशु मसीह को स्वीकार करना चाहिए क्योंकि हम आप की तरह रहते हैं? क्यों हमें प्रभु यीशु मसीह को स्वीकार करना चाहिए क्योंकि हमारी महिलाएं अवैध शराब मजदूर और वेष्या और आवारा लड़की की तरह पोशाक पहन सकती हैं? वे इसे क्यों स्वीकार करेंगे? वे इसे देखते हैं और कहते हैं कि यह अनैतिक है। वे हमारी संस्कृति को देखते हैं और कहते हैं कि यह धर्मभ्रष्ट है। ‘‘आपमें नैतिकता नहीं है, आपका कोर्इ मानक नहीं है, और जीवन जीने के लिए आपकी कोर्इ विधियाँ और निर्णय नहीं है।’’ और यह उन्हें आज सुरक्षित करने के लिए एक बाधा है क्योंकि अमेरिकी दुष्ट हैं और वहाँ चले गए हैं।
तुम्हें पता है मैने अभिनेता रिचर्ड गेरे के बारे में इंडिया जाने और अपनी पत्नी के अलावा किसी अन्य औरत को सार्वजनिक रूप से चुंबन के लिए गिरफ्तार करने की कुछ कहानी पढ़ी हैं। उसने सार्वजनिक रूप से किसी औरत को जोकि उसकी पत्नी नहीं थी मुँह पर सिर्फ चुंबन किया था। हमें उसे अनैतिक के रूप में देखना चाहिए। आप अभी कैसा महसूस करेगें यदि कोर्इ अन्य महिला यहाँ आती है, और मैं अपनी पत्नी के अलावा किसी अन्य का अभी चुंबन करता हूँ? आप भयभीत हो जाएगें। आपको भयभीत होना चाहिए, लेकिन हमने इसे टीवी पर देखा, हमने इसे फिल्म में देखते हैं, और हमें इसके अलावा कुछ भी नहीं लगता।
यह बस ठीक और उम्दा है। उसने यह किया, और उसे वहाँ पर गिरफ्तार किया गया था। क्यों? क्योंकि उनकी संस्कृति अधिक परंपरागत और वास्तव में कुछ बातों में अधिक नैतिकता दिखार्इ जाती है। भगवान अमेरिकी र्इसाइयों के रूप में हमारी मदद करते हैं जब हम नैतिकता के बिना जीवन जीते हैं और किसी मानक के बिना रहते हैं यीशु मसीह के नाम पर कीचड़ उछालते हैं - नास्तिक और अशुद्ध और अस्वच्छ जीवन द्वारा। दुनिया इसे देखती है, और वे प्रभावित नहीं होते। वे क्यों हो? हम कैसे मुसलमानों और हिंदुओं तक उपदेष देने के लिए जा सकते हैं यदि हम स्वच्छ जीवन नहीं जीते?
वे हमें देखते हैं और कहते हैं, ‘‘मैं क्यों इस धर्म का पालन करना चाहता हूँ? मेरी पत्नी के पास आपकी पत्नी से अधिक कपडे हैं। आपकी पत्नी आधी नंगी है। आपकी पत्नी छोटे शॉर्ट्स और छोटे टॉप में है।’’ अच्छा, तो मुस्लिम महिलाएं थोड़े अधिक कपड़े पहने हुए हैं। ठीक है। खैर, हम बहुत कम पहन रहे हैं! हमें कुछ बीच में, खोजने की जरूरत है! हमें कपड़ों के लिए बाइबल के मानकों का पालन करने की आवश्यकता है।
बाइबल की ड्यूट्रोनोमी 4 में स्पष्ट है कि कैसे हम उपदेष के माध्यम से अन्य देशों तक पहुंच सकते हैं: भगवान के कानून का पालन और भगवान की धार्मिकता के पालन की छवि के अनुसरण द्वारा। तुम और मैं दोनों जानते हैं कि हिंदू धर्म के शास्त्रों में जिस रास्ते की पेशकश की गर्इ है बाइबल उन सबसे से भी बेहतर है। हम जानते हैं कि बाइबल की सोच कुरान की तुलना में सोच से भी अधिक है।
हम जानते हैं, लेकिन सवाल यह है कि, क्या वे इसे देख सकते हैं जब वे हमारे जीवन को देखते हैं, या क्या वे हम में हॉलीवुड का प्रतिबिंब देखते हैं? इसके बारे में सोचो। यदि हम अपने जीवन के माध्यम से एक खास तरह से रहते हैं, क्या वे हमें देखेगें और हॉलीवुड, मैडिसन एवेन्यू, आदि का प्रतिबिंब देखेगें, या क्या वे इस पुस्तक का प्रतिबिंब देख रहे हैं क्योंकि बाइबल कहती है कि अगर वे हमें इस पुस्तक द्वारा जीवित देखते हैं, तो हम उनकी –ष्टि में अच्छे बन जाएगें।
वे कह देंगे, ‘‘आप क्या जानते हैं, यहां तक कि अगर हम अलग धर्म में विश्वास करते हैं, ये लोग अपना जीवन अच्छी तरह से जो कि नैतिक और धर्मी और साफ रहने वाले हैं।’’ लेकिन वह पर्याप्त नहीं है। मैं र्इसार्इ धर्मोपदेष की जीवनशैली, दोस्तों पर उपदेश नहीं देता हूँ। वह पर्याप्त नहीं है। आप फिर बाइबल खोलें और अपना मुँह साहसपूर्वक खोलें और उपदेष का  प्रचार करें। आपको दोनों करने की जरूरत है, और बस बैठता नहीं और कहता है कि, ‘‘ओह, मेरे प्रमाण का सब पर कोर्इ फर्क नहीं पड़ता।’’
जब आप नास्तिक दुष्टों का जीवन जी रहे हैं, अन्य संस्कृतियों के लोग आप को नीचा दिखाएगें क्योंकि वे अमेरिका की तरह नास्तिक और दुष्ट नहीं हैं। यह बहुत दुख की बात है कि मुझे भी यह कहना पड़ रहा है। अन्य राष्ट्र भी हमें अभी नीचा दिखा रहे हैं। यह सच है। वे ऐसा कर रहे हैं। इसके बारे में सोचो: वे अमेरिका को देखते हैं और उन्हें लगता है कि हम गुदामैथुन (समलैंगिकता) की राजधानी रहे हैं। मैं एक मिशनरी से क्यों सुनना चाहूंगा कि यह गुदामैथुन की भूमि से आ रहा है?

‘‘मैं गुदामैथुन और अमोरा के देश से हूँ, और मैं यहाँ आपको यीशु के उपदेष देने के लिए आया हूँ।’’ वे कहते हैं, ‘‘यीशु को भूल जाओ! हम इसके बारे में सुनना नहीं चाहते!’’ क्योंकि वे गुदामैथुन (समलैंगिकता) और गंदगी नहीं चाहते। हमें र्इसाइयों के रूप में खड़े हो जाना चाहिए और इस बात की निंदा और इसके खिलाफ लड़ना और खुद को इससे दूर रखना चाहिए। लेकिन सभी र्इसार्इ क्या कह रहे हैं, ‘‘ओह, चलो बस सभी को समलैंगिकता में से ले आओ।’’ नहीं! हमें अपने आप को उस से दूर रखना चाहिए!
‘‘ओह, लेकिन हम कैसे समलैंगिक तक पहुंच सकते हैं? हम उपदेष के थोड़े से र्इधन के गट्ठे के साथ गरीब तक पहुँच सकते हैं।’’ अरे, अरब हिंदुओं का क्या जो नरक में जा रहे हैं?! उन्हें लगता है कि आप एक बदबूदार र्इधन का गट्ठा हैं अगर ये सब अजीब भयानक आपके चर्च में आने वाले हैं। आपको उनके बारे में परवाह क्यों नहीं है? (हिन्दू) इसके बजाय, हम समलैंगिक परित्यक्त मानव जिनके लिए बहुत देर हो चुकी है तक पहुँचने की कोशिश कर रहे हैं।
लेकिन, ओह, हम इसके बारे में चिंतित हैं तो बस इतना कि कैसे हम इस छोटी परी तक पहुंच सकते हैं। इस दुनिया में सभी अरबों लोगों के बारे में क्या है जो हिंदू धर्म के इन झूठे देवताओं की पूजा कर रहे हैं? आप उन्हें क्यों नहीं बचाना चाहते? वे आपसे समलैंगिक होने के नाते या र्इधन के गट्ठे के गुच्छे के चारों ओर लटकने से प्रभावित नहीं हैं, और मैं तुम्ह बता रहा हूँ, हमें खुद को हॉलीवुड के गंदे रास्ते से दूर रहने की जरूरत है।
हमें खुद को इस दुनिया के मैल से दूर रहने की जरूरत है। जब आप बाहर जाते हैं और अनुमतिदायक, अशुद्ध, गंदगी के रास्ते में अपना जीवन बिताते हैं, और गंदे लोगों के समूह के साथ, और अपने दिमाग को कबाड से भरण करते हैं, तब आपको अच्छा बनने की, यीशु मसीह के उपदेष के प्रकाश में चमकने की अपेक्षा है, यह काम नहीं करेगा। हमें र्इसाइयों के रूप में अपने प्रमाण की मरम्मत करने की जरूरत है ताकि दुनिया के राष्ट्र हमें देखेगें, और वे कहेंगें, ‘‘क्या तुम्हें पता है, यह बुद्धिमान लोग है। ये लोग भगवान के समीप हैं। मैं सुनना चाहता हूँ कि वे क्या कहते हैं। भगवान ने पुराने इच्छापत्र में भविष्यवाणी की यदि वे भगवान के कानूनों और उसकी विधियों का पालन करते हैं, सब जगह से लोग आ जाएगें।
इसराइल के राष्ट्र के लोगों का झुंड सिर्फ भगवान के बारे में जानना चाहता हैं। उदाहरण के लिए, शिबा की रानी- उसने दिखाया कि वह बहुत प्रभावित हुर्इ थी। ‘‘वाह, यह महान है। ये कानून और ये विधियाँ और निर्णय बहुत अच्छे हैं।’’ वह प्रभावित थी, और वह घर चली गर्इ और अपने लोगों से अच्छी रिपोर्ट लार्इ।
अमेरिका को यह करना चाहिए, और जाहिर है हम नियंत्रित नहीं कर सकते जो कि हमारे देश के लोगों में चल रहा है, लेकिन कम से कम हम स्वतंत्र र्इसार्इयों के रूप में - कम से कम हम इस चर्च पर या कम से कम आपपर और आपके परिवार के लोगों के लिए एक छवि पेष कर सकते हैं जो आपके साथ संपर्क में आते हैं ‘‘अरे, हम अलग हैं। हम दुष्ट लोग नहीं हैं । हम वास्तव में बाइबल का अनुसरण करने में विश्वास करते हैं।’’
जब आप मौखिक रूप से अपना मुँह खोलेगें तो यह प्रमाण आपकी मदद करेगा है कि आप यीशु मसीह के उपदेष के बेहतर गवाह हो। आपको दोनों की जरूरत है। आप बस वहाँ बैठना नहीं चाहते और कहते हैं कि, ‘‘ओह, हाँ, मैं सिर्फ अपनी जिंदगी जिउंगा, और वे इसे देखेंगे।’’ नहीं. अपना जीवन जिएं, और तब उपदेश का प्रचार करें। लेकिन आप सिर्फ उपदेश का प्रचार नहीं चाहते आप परमेश्वर की आज्ञाओं का अनादर करना चाहते हैं क्योंकि फिर आप बुरे प्रमाण हैं। तब वे प्रभावित नहीं हो सकते। वे नहीं हो सकते।
बाइबल कहती है, ‘‘एक राष्ट्र का धर्म ऊंचा है, लेकिन पाप किसी भी लोगों के लिए तिरस्कार है।’’ क्या आप जानते हैं कि ‘‘तिरस्कार’’ का क्या अर्थ है? इसका मतलब है कि लोग इसे देखते हैं, और वे सिर्फ अपने सिर हिलाते हैं। हमारे पास अब दुनिया की हँसी का स्टॉक है। आगे बढ़ो और इस की रक्षा करो। अब आप में से कुछ अभी... मैं आपसे शर्त लगा सकता हूँ कि कोर्इ इस कमरे में सोच रहा है, ‘‘ओह, मैं विश्वास नहीं कर सकता उसने यह शब्द ‘‘र्इधन का गट्ठा! कहा ओह, ओह! ‘‘यहाँ से चले जाओ, और कभी वापस मत आना!
बाहर निकल जाओ। बस जाओ! क्योंकि आप आज अमेरिका में समस्या हो अगर आप वहाँ बैठने जा रहे हैं और बीमार का, घृणित, गंदे, कर्मचारी का बचाव करने जा रहे हैं तो यहाँ से बाहर चले जाओ! बाहर निकल जाओ! मैं आप के आसपास नहीं जाना चाहता! आप कहते हैं, ‘‘ओह, मैं डर रहा हूँ जब आप समलैंगिक के खिलाफ कड़ी मेहनत का उपदेश देते हैं, आप लोगों को खोने जा रहे हैं।’’ मुझे आशा है कि मैं लोगों को समलैंगिक के खिलाफ कड़ी मेहनत का उपदेश देकर खो दूंगा! मुझे आशा है कि यदि आप उस गंदगी और उस मैल का अनुमोदन करेगें तो आप बाहर निकल जाएगें।
मैं आपको अपने बच्चों के आसपास नहीं चाहता क्योंकि मैं आपपर शक करता हूँ अगर आप इसका बचाव करने जा रहे हैं। यह बीमार है, यह नीच है, और यह बहुत ही घृणित है। निकल जाओ! दुनिया इस बकवास को स्वीकार नहीं करती! यह अमेरिका है जो इस गंदगी को स्वीकार करता है। बाकी दुनिया आपको देख रही है और सोच रही है कि आप घृणित हैं। अगर हम खुद को दुष्टता से दूर और इस किताब को मानक के रूप में नहीं उठाएगें तो हम कैसे उन तक उपदेष पहुँचा सकते हैं? मुझे इस पुस्तक में अपने संस्करण दिखाओ, और मैं तुम्हें अपने दिखाता हूँ।
चलो अपने सिर झुकाते हैं और प्रार्थना करते हैं। फादर, हम यीशु के उपदेष के लिए आपका बहुत धन्यवाद करते हैं। हे प्रभु, यह अच्छी खबर है। हमें दुनिया के लिए इसकीे जरूरत है। हे प्रभु, हमें एक अरब हिंदुओं को पाने के लिए इसकी जरूरत है। हे प्रभु, वे सुरक्षित नहीं हैं। मुझे परवाह नहीं है कि जॉयल ऑस्टीन क्या कहते हैं, हे प्रभु, वे सुरक्षित नहीं हैं और यह हम दोनों जानते हैं।
मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप उपदेष की चमकीली रोशनी जलाने में हमारी मदद करोगे। दुनिया के अन्य देशों द्वारा सम्मानित जीवन बिताने के लिए हमारी मदद करोगे। बाहर जाने और दक्षिण टैम्पे के दरवाजे पर दस्तक और उत्तरी टैम्पे के दरवाजे पर दस्तक और इन प्रिय लोगों तक पहुंचने और उन्हें यीशु का सुरक्षित उपदेष देने में हमारी मदद करोगे । हम ये बातें आपके नाम से पूछते हैं। आमीन।


Thursday, May 14, 2015

Full "Marching to Zion" now on YouTube!



Share this movie everywhere! Like it, fave it, blog it, tweet it, email it, reddit, share it, MAKE IT VIRAL!

Wednesday, April 22, 2015

"Marching to Zion" Trailer now in 60 languages!


The translation project for our new film "Marching to Zion" continues! The goal is to get the trailer translated into the 100 most significant languages in the world and to get the full movie translated into 14 strategic languages. Here is what has been finished so far:

VIDEO:  Afrikaans, Assamese, Bengali, Bulgarian, Burmese (Myanmar), Mandarin Chinese, Cantonese, Croatian, Czech, French, Georgian, German, Greek, Hungarian, Indonesian, Japanese, Kannada, Kazakh, Malagasy, Malay, Marathi, Nepali, Persian, Portuguese, Romanian, Russian, Setswana, Slovenian, Somali, Spanish, Swahili, Swedish, Tagalog, Telugu, Thai, Turkish, Ukrainian, Uzbek, Vietnamese, and Yoruba

TEXT: Afrikaans, Albanian, Arabic, Armenian, Assamese, Azerbaijani, Bengali, Bulgarian, Burmese (Myanmar), Cebuano (Bisaya), Mandarin Chinese, Cantonese, Croatian, Czech, Dutch, French, Finnish, Galician, Georgian, German, Greek, Hausa, Hebrew, Hungarian, Igbo, Indonesian, Italian, Japanese, Kannada, Kazakh, Latvian, Lithuanian, Malagasy, Malay, Malayalam, Marathi, Nepali, Persian, Polish, Portuguese, Punjabi, Romanian, Russian, Setswana, Sinhalese, Slovenian, Somali, Spanish, Swahili, Swedish, Tagalog, Tajik, Tamil, Telugu, Thai, Turkish, Ukrainian, Uzbek, Vietnamese, Yoruba, and Zulu.

In addition, the first 17 minutes of the FULL MOVIE is now on YouTube in Spanish, German, French, and Portuguese!